भारत ने विदेशों से आने वाले यात्रियों के लिए नया दिशा निर्देश जारी किया, नया नियम 25 अक्टूबर 2021 से लागू

भारत सरकार ने 20 अक्टूबर 2021 से भारत आने वाले सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए संशोधित दिशा-निर्देश जारी किए है जो 25 अक्टूबर 2021 से लागू होंगे।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने एक अधिसूचना जारी करते हुए कहा की दुनिया भर में टीकाकरण कवरेज बढ़ाने और महामारी के बदलते स्वरूप को देखते हुए अंतरराष्ट्रीय आगमन के मौजूदा दिशा-निर्देशों की समीक्षा की गई है।

उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस महामारी के कारण 23 मार्च से भारत ने सभी अनुसूचित अंतर्राष्ट्रीय यात्री उड़ानों को निलंबित कर दिया गया था और बाद मे मई माह से वंदे भारत मिशन के तहत विशेष उड़ानें संचालित हो रही हैं।

वंदे भारत मिशन के अलावा भारत के लगभग 28 देशों के साथ द्विपक्षीय एयर बबल समझौते हैं, जिन देशों में शामिल है-कतर, ओमान, बहरीन, कुवैत, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, कनाडा, इथियोपिया, फ्रांस, जर्मनी, इराक, जापान, केन्या, मालदीव, नेपाल, नीदरलैंड, नाइजीरिया, रवांडा, सेशेल्स, तंजानिया, यूक्रेन, यूके, उज्बेकिस्तान और अमेरिका….।

यात्रा की योजना

विदेशों से आने वाले सभी यात्रियों को निम्नलिखित दिशा निर्देशों का पालन करना होगा,

  • निर्धारित यात्रा से पहले सभी यात्रियों को ऑनलाइन पोर्टल एयर सुविधा (www.newdelhiairport.in) पर स्व-घोषणा अनलाइन फ़ॉर्म भरना होगा और इसका प्रिंट आउट भी निकालना होगा।
  • एक नेगेटिव कोविड -19 आरटी-पीसीआर टेस्ट रिपोर्ट (Negative Covid-19 RT-PCR) अपलोड करना होगा। टेस्ट यात्रा शुरू करने से 72 घंटे पहले किया गया होना चाहिए।
  • प्रत्येक यात्री को RT-PCR रिपोर्ट की प्रामाणिकता के संबंध में एक घोषणा भी प्रस्तुत करनी होगी, फर्जी या गलत रिपोर्ट पाए जाने की स्थिति में यात्री के ऊपर आपराधिक मुकदमा चलाया जाएगा। (गलत तथ्य प्रस्तुत करने की स्थिति में यात्री खुद उत्तरदायी होगा)
  • यात्री को यात्रा से पहले एयरलाइनों के माध्यम से या नागरिक उड्डयन मंत्रालय के पोर्टल के माध्यम से एक वचन पत्र देना होगा कि वे सरकार द्वारा बताए गए दिशा निर्देशों के अनुसार होम क्वारन्टाइन या स्व-स्वास्थ्य निगरानी से गुजरने के निर्णयों का पालन करेंगे।

बोर्डिंग से पहले

  • संबंधित एयरलाइनों/एजेंसियों द्वारा यात्रियों को टिकट के साथ-साथ एक निर्देशावली भी प्रदान किया जाएगा जिसमें लिखा होगा क्या करें और क्या नहीं।
  • एयरलाइंस सिर्फ उन्हीं यात्रियों को बोर्डिंग प्रदान करेगी, जिन्होंने एयर सुविधा पोर्टल पर सेल्फ डिक्लेरेशन फॉर्म भरा है और नेगेटिव आरटी-पीसीआर RT-PCR टेस्ट रिपोर्ट अपलोड किया है।
  • फ्लाइट में चढ़ने के समय थर्मल स्क्रीनिंग के बाद केवल बिना लक्षण वाले यात्रियों को ही बोर्डिंग की अनुमति होगी। 
  • सभी यात्रियों को अपने मोबाइल पर आरोग्य सेतु ऐप (Aarogya Setu app) डाउनलोड करना होगा।

यात्रा के दौरान

  • हवाई अड्डों और उड़ानों में और पारगमन (Transit) के दौरान एहतियाती उपायों सहित कोविड -19 के विषय में आवश्यक घोषणा की जाएगी।
  • उड़ान के दौरान चालक दल के सदस्यों द्वारा कोविड-19 एहतियाती उपायों का पालन कराया जाएगा और चालक दल के अधिकारी यह सुनिश्चित करेंगे कि यात्री ने यात्रा के दौरान कोविड-19 दिशा निर्देशों का उपयुक्त पालन किया या नहीं।
  • यदि कोई यात्री उड़ान के दौरान कोविड-19 के लक्षणों की रिपोर्ट करता है तो उसे प्रोटोकॉल के अनुसार आइसोलेट किया जाएगा।

आगमन पर (On Arrival)

  • शारीरिक दूरी सुनिश्चित करते हुए डी-बोर्डिंग के लिए लाइन मे खड़े होना होगा।
  • हवाई अड्डे पर मौजूद स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा सभी यात्रियों का थर्मल स्क्रीनिंग किया जाएगा। ऑनलाइन भरा गया सेल्फ डिक्लेरेशन फॉर्म हवाई अड्डे के स्वास्थ्य कर्मचारियों को प्रस्तुत करना होगा।
  • स्क्रीनिंग के दौरान लक्षण पाए जाने वाले यात्रियों को तुरंत आइसोलेट किया जाएगा और स्वास्थ्य प्रोटोकॉल के अनुसार चिकित्सा सुविधा मुहैया कराया जाएगा। यदि सकारात्मक (Positive) रिपोर्ट आता है तो उसके संपर्क में आए लोगों की पहचान की जाएगी और उन्हें निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुसार प्रबंधित किया जाएगा।
  • जोखिम वाले देशों के यात्री निम्नलिखित प्रोटोकॉल का पालन करेंगे,

यदि यात्री एक ऐसे देश से आ रहा है जिसके साथ भारत में डब्ल्यूएचओ द्वारा अनुमोदित कोविड-19 टीकों (श्रेणी ए) की पारस्परिक स्वीकृत है:

  1. अगर यात्री ने पूरी तरह टीकाकरण कराया है तो उन्हें हवाई अड्डे से बाहर जाने की अनुमति दी जाएगी और आगमन के बाद 14 दिनों तक अपने स्वास्थ्य की स्वयं निगरानी करनी होगी।
  2. यदि यात्री ने आंशिक रूप से टीकाकरण नहीं करवाया है तो उन यात्रियों को निम्नलिखित उपाय करने की आवश्यकता है:

A- आगमन के बाद कोविड -19 टेस्ट करना होगा टेस्ट के उपरांत ही उन्हें हवाई अड्डे से बाहर जाने की अनुमति दी जाएगी।

B- 7 दिनों के लिए होम क्वारंटाइन रहना होगा। 

C-भारत में आगमन के 8वें दिन फिर से कोविड टेस्ट करना होगा और यदि टेस्ट नकारात्मक आता है तो उन्हें अगले 7 दिनों तक स्वास्थ्य निगरानी में रखा जाएगा।

  • श्रेणी ए के तहत आने वाले यात्री को छोड़कर किसी देश से आ रहे हैं, तो उन्हें उपरोक्त पैरा (ii) में उल्लिखित उपायों से गुजरना होगा, भले ही उनकी कोविड -19 टीकाकरण स्थिति कुछ भी हो।
  • होम क्वारंटाइन के दौरान कोविड -19 के संकेत या लक्षण विकसित की इस्तहिती मे उन्हे अपने निकटतम स्वास्थ्य केंद्र या राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर 1075 पर कॉल कर रिपोर्ट दर्ज करना होगा।

बंदरगाह/भूमि बंदरगाहों पर पहुंचने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्री

  • बंदरगाहों या भूमि बंदरगाहों के माध्यम से आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को भी कोविड-19 प्रोटोकॉल से गुजरना होगा ऐसे यात्रियों के लिए ऑनलाइन पंजीकरण की सुविधा उपलब्ध नहीं है।
  • ऐसे यात्रियों को आगमन पर बंदरगाहों/भूमि बंदरगाहों पर भारत सरकार के संबंधित अधिकारियों को स्व-घोषणा पत्र जमा करना होगा।\

सरकार द्वारा जारी नए सर्कुलर को डाउनलोड करने के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करें (PDF कॉपी 20-अक्टूबर-2021) Guidelines-For-International-Arrival-20-October-2021 

अन्य पोस्ट-

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here