कुवैत में 50% प्रवासीयो के छटनी की प्रक्रिया सुरु

कुवैत 50% प्रवासीयो को निकाल, कुवैतकरण के प्रथम चरण में प्रवेश करता दिख रहा है

कुवैती समाचार पत्र के अनुसार, कुवैत के सरकारी विभागों में कार्यरत प्रवासियों में से लगभग 50% अगले 3 महीनों में नौकरी से निकल दिये जायेंगा। प्रस्तुति-कुवैत से आठ लाख भारतीयों को निकालने की तैयारी !

कुवैत के सरकारी मंत्रालयों ने पहले ही सार्वजनिक क्षेत्र में नौकरियों का स्थानीयकरण कर अपने नागरिकों को रोजगार मुहैया कराना सुरु कर दिया है।

कुवैत के सरकारी विभागों ने नौकरी में ‘कुवैतकरण’ शुरू कर दिया है, सरकार की नई नीति सरकारी कार्यालयों में काम करने वाले स्थानीय लोगों के संख्या को बढ़ाने के लिए बनाई गई है।


– जिन लोगों के पास ऐसे अनुबंध हैं जिनके लिए विशेषज्ञ की आवश्यकता होती है उन्हें इस नई नीति से छूट नहीं मिलेगी, उन सभी को धीरे-धीरे चरणबद्ध तरीके से निकाला जाएगा, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि काम के गुणवत्ता पर असर तो नहीं पड रहा।

-कुवैत में ज्यादातर प्रवासी पहले से ही सरकारी मंत्रालयों के लिए काम कर रहें हैं व विभिन्न विभागों में उच्च पदों पर भी आसीन हैं।

– कुवैत के संसद सदस्य खलील अल सालेह, जो संसदीय मानव संसाधन विकास समिति के प्रमुख हैं, ने कहा कि कुवैत के साथ एक्सपैट्स को निकालने के लिए सभी जरूर कदम उठाए गए हैं, और बैठक एक सप्ताह में आयोजित की जाएगी जिसमें डेटा और नए आंकड़े नीति पर चर्चा होगी।

– उन्होंने कहा कि सिविल सेवा आयोग ने सभी एक्सपैट्स के कॉन्ट्रैक्ट को समाप्त कर 100% कुवैत मूल कर्मचारी मे बदल दिया जायेंगा।

वर्तमान में, कुवैत में 3 मिलियन से अधिक प्रवासी रह रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here