कुवैत में भारतीय दूतावास ने इच्छुक नागरिकों का देश-प्रत्यावर्तन पंजीकरण शुरू किया

कुवैत में भारतीय दूतावास ने उन नागरिकों का पंजीकृत करना शुरू कर दिया है जिनके पास वैध यात्रा दस्तावेज़ नहीं हैं और वे अपने देश वापस जाना चाहते हैं।

वेबसाइट पर एक बयान में, दूतावास ने कहा कि कुवैत में भारतीय नागरिकों के लिए एक ’पंजीकरण अभियान’ शुरू किया है, जिनके पास वैध पासपोर्ट या वैध दस्तावेज़ नहीं है। पंजीकरण करने के इच्छुक लोगों के लिए, भारतीय दूतावास अपनी वेबसाइट पर ऑनलाइन फॉर्म जमा कर रहा है। पढ़े-दुबई में कारोबार के लिये 20 स्मॉल बिज़नेस आइडिया और अवसर-2020

पंजीकरण करने के लिए लिंक पर क्लिक करे 👉 Registration Drive

अधिक जानकारी के लिए community.kuwait@mea.gov.in पर संपर्क करें। 

दूतावास ने यह भी कहा कि ‘पंजीकरण’ के लिये कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा यह मुक्त है फ़ॉर्म व दस्तावेज़ों को सीधे दूतावास काउंटर पर भी जमा किया जा सकता है। पढ़े-क्या आप जानते हैं संयुक्त अरब अमीरात का कब और कैसे गठन हुआ था !

दूतावास के अनुसार, “आपातकालीन प्रमाण पत्र (Emergency Certificate) एक यात्रा दस्तावेज़ है, जारी करने की तारीख के छह महीने के भीतर भारत में प्रवेश किया जा सकता है यह प्रमाण पत्र ऐसे भारतीय नागरिकों को जारी किया जाता है जो किसी भी देश में अवैध निवासी बन गए हैं। 

वर्तमान में, कुवैत में लगभग 120,000 अवैध परमिट धारक हैं। लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि उनमें से कितने भारतीय नागरिक हैं। पढ़े-कुवैत से आठ लाख भारतीयों को निकालने की तैयारी !

कुवैत में भारतीय समुदाय सबसे बड़ा विदेशी प्रवासी समुदाय है, लगभग 1.45 मिलियन भारतीय नागरिक कुवैत में रहते हैं। चार मिलियन की आबादी के साथ, भारतीय कुवैत की पूरी आबादी के तकरीबन 36 प्रतिशत हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here