Wednesday, February 21, 2024
Homeगल्फ न्यूजयूएईयूएई वेज प्रोटेक्शन सिस्टम गाइडलाइन व अक्सर पूछे जाने वाले सवाल ?

यूएई वेज प्रोटेक्शन सिस्टम गाइडलाइन व अक्सर पूछे जाने वाले सवाल ?

यूएई ने 2009 वेज प्रोटेक्शन सिस्टम (Wages Protection System) पेश किया था जिसे हिन्दी मे मजदूरी संरक्षण प्रणाली कहा जा सकता है एक ऐसा सिस्टम जो यह सुनिश्चित करता है कि यूएई के कंपनियों में काम करने वालों वर्करों को पूरी तरह से और समय पर भुगतान किया जा रहा है या नहीं।

मानव संसाधन और अमीरात मंत्रालय (Ministry of Human Resources and Emiratisation) के निर्देश पर यूएई के सेंट्रल बैंक द्वारा एक डेटाबेस विकसित किया गया था। यह वेज प्रणाली यूएई के निजी क्षेत्रों में कार्यरत कर्मचारियों के वेतन भुगतान का रिकॉर्ड रखता है।

वेज प्रोटेक्शन सिस्टम सभी क्षेत्रों के उद्योगों और संस्थानों को मानव संसाधन और अमीरात मंत्रालय के साथ पंजीकृत करने के लिए बाध्य करता है और इसका उद्देश्य श्रमिकों के विभिन्न श्रेणियों को लाभान्वित करना है।

यह सिस्टम कैसे काम करता है?

मिनिस्ट्री ऑफ ह्यूमन रिसोर्स एंड अमीरात कर्मचारीयो के सैलरी फाइल बनाने के लिए कंपनियों को एक इलेक्ट्रॉनिक टूल मुहैया कराता है जिसे कंपनियों अपने संबंधित किसी बैंकों के साथ इलेक्ट्रॉनिकली इंटर लिंकिंग कर कर्मचारियों के वेतन वितरित का वेवरा साझा करते है। इस फाइल में कर्मचारियों के वेतन व अनुबंध आदि की जानकारी दर्ज होती है जिससे मिनिस्ट्री ऑफ ह्यूमन रिसोर्स एंड अमीरात को यह सुनिश्चित करने में मदद मिलती है कि श्रमिकों का भुगतान सुचारू रूप से किया जा रहा है।

यह प्रणाली www.mohre.gov.ae पर ऑनलाइन उपलब्ध है जहां नियोक्ता अपने अकाउंट में लॉग-इन कर अपनी कंपनी के विवरण का उपयोग करते हैं, जो मंत्रालय द्वारा प्रदान किए जाता हैं।

प्रत्येक नियोक्ता को वेज प्रोटेक्शन सिस्टम में अपने कर्मचारियों की सूची व बैंक विवरण अपडेट करना होता है साथ ही कंपनी को प्रत्येक कर्मचारी का खाता नंबर और वेतन भुगतान तिथि भी दर्ज करना अनिवार्य होता है।

मिनिस्ट्री ऑफ ह्यूमन रिसोर्स एंड अमीरात का स्पष्ट निर्देश है “वेतन भुगतान के लिए चुनी गई तारीख से एक महीने से अधिक का अंतर नहीं होनी चाहिए।”

गवर्नमेंट के दिशा-निर्देश कहते हैं: “जब भी कोई कर्मचारी किसी कंपनी को जॉइन करता है या कंपनी छोड़ता है, तो नियोक्ता को तत्काल एक नई कर्मचारी सूची अपलोड करनी होगी साथ ही आवेदन को संलग्न करना होगा।”

भुगतान प्रक्रिया

स्टेप 1: कंपनी को किसी अनुमोदित बैंक या एजेंट के साथ बैंक खाता खुलना होता है। 
स्टेप 2: कंपनी वेज प्रोटेक्शन सिस्टम कानून के तहत बैंक/एजेंट के साथ समझौता करती है।
स्टेप 3: कंपनी बैंक/एजेंट को वेतन स्थानांतरण निर्देश जारी करता है। 
स्टेप 4: बैंक/एजेंट मिनिस्ट्री ऑफ ह्यूमन रिसोर्स एंड अमीरात को सूचित करते हैं साथ ही यूएई सेंट्रल बैंक को श्रमिकों का विवरण और वेतन डिटेलस इलेक्ट्रॉनिक रूप से साझा करते है।
स्टेप 5: यूएई सेंट्रल बैंक अपने डेटाबेस को क्रॉस-चेक करने के लिए उन विवरणों को पुनः मंत्रालय को भेजता है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि प्राप्त विवरण मंत्रालय के साथ पंजीकृत है या नहीं।
स्टेप 6: वेज प्रोटेक्शन सिस्टम कानून कर्मचारी को भुगतान करने के लिए नियोक्ता के बैंक/ एजेंट को अधिकृत करता है।
स्टेप 7: बैंक/एजेंट वेतन को कर्मचारी के खाते में स्थानांतरित करते है।

मैं वेतन कैसे निकाल सकता हूं?

उन कर्मचारियों के लिए जिनके पास बैंक खाता है उन्होंने एटीएम कार्ड जारी किया है प्रक्रिया अपेक्षाकृत सरल है। वेतन ट्रांसफर अधिसूचना बैंक द्वारा भेजी जाती है जिस बैंक के साथ आपका व्यक्तिगत खाता है।

यह एक SMS या ईमेल के माध्यम के माध्यम से हो सकता है यदि आपने सेवाओं के लिए पंजीकरण किया है।

WPS कार्ड (वेज प्रोटेक्शन सिस्टम)

यदि किसी कर्मचारियों के पास बैंक अकाउंट नहीं है तो कंपनियां एजेंट के माध्यम से यूएई में मनी एक्सचेंज के साथ लिंक कर सकती हैं। एक्सचेंज, नियोक्ताओं को वेतन अदायगी के लिए फंड को एक्सचेंज में स्थानांतरित करने की अनुमति देता है। 

एक्सचेंज कर्मचारियों को WPS कार्ड प्रदान करता है। इस कार्ड का उपयोग किसी भी पंजीकृत एक्सचेंज हाउस में या विभिन्न स्थानों पर स्थापित WPS मशीनों के माध्यम से किया जा सकता है जिसका विवरण कर्मचारियों को प्रदान किया जाता है।

यदि मेरा नियोक्ता मुझे समय पर भुगतान नहीं करता है तो मैं क्या कर सकता हूं?

वेज प्रोटेक्शन सिस्टम (WPS) के नियमों का पालन करने में विफल होने पर यूएई में कंपनियों को गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं। 2017 के मंत्रिस्तरीय संकल्प संख्या 15 के अनुसार ये जुर्माना WPS के फर्जी उपयोग से संबंधित कार्यों के लिए लागू होता है। 

  • वेज प्रोटेक्शन सिस्टम (WPS) में चोरी या धोखे के उद्देश्य से गलत डेटा देने पर प्रत्येक कर्मचारी के लिए Dh  5,000 और अधिकतम Dh 50,000 तक जुर्माना तय है।
  • वेज प्रोटेक्शन सिस्टम (WPS) के अनुसार तय तारीखों पर भुगतान करने में विफल रहने पर – प्रति कर्मचारी Dh 1,000 जुर्माना तय है। 
  • कंपनियों द्वारा मजबूरन कर्मचारियों से फर्जी वेतन स्लिप पर हस्ताक्षर करना और वेज प्रोटेक्शन सिस्टम (WPS) को यह बताना की वेतन दिया जा रहा है इस तरह के मामले में प्रति कर्मचारी Dh 5,000 जुर्माना तय है।

देर से वेतन का भुगतान

मिनिस्ट्री ऑफ ह्यूमन रिसोर्स एंड अमीरात (MOHRE) के नियमों के अनुसार यदि तय तिथि से 10 दिनों के भीतर कर्मचारी को वेतन का भुगतान नहीं किया जाता है या नियोक्ता से वेतन भुगतान में देर हो जाती है तो वेतन अवधि सप्ताह समाप्ति के अगले दिन तक कर देनी चाहिए।

नियत तिथि के एक महीने के भीतर कर्मचारी के वेतन का भुगतान नहीं करने पर या नियोक्ता द्वारा वेतन का भुगतान करने से मना कर करने की स्थिति में,

वेतन देने में विफल कंपनियों पर जुर्माना

100 से अधिक श्रमिकों को रोजगार देने वाली कंपनियों पर जुर्माना

100 से अधिक श्रमिकों को रोजगार देने वाली कंपनियां, यदि भुगतान तारीख के 10 दिनों के बाद भी वेतन का भुगतान करने में विफल रहने पर परिणाम,

  • देरी की तारीख से 16वें दिन के बाद उन कंपनियों के वर्क परमिट जारी नहीं किया जाएगा।
  •  नियत तारीख से एक महीने की देरी करने वाली ऐसी कंपनियों को दंडात्मक उपायों के लिए न्यायिक अधिकारियों को भेजा जाएगा।
  • एक ही मालिक के स्वामित्व वाली सभी कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी
  •  कंपनी मालिक किसी भी नई कंपनी को पंजीकृत नहीं कर पाएंगे।
  • नियोक्ता द्वारा रखे गए बैंक गारंटी का परिसमापन (liquidated) कर्मचारियों के वेतन के रूप में कर दिया जाएगा।
  • कंपनी को तीसरी श्रेणी में डाउनग्रेड किया जाएगा।
  • श्रमिकों को किसी अन्य कंपनियों में ट्रांसफर करने की अनुमति दे दी जाएगी।

यदि कोई कंपनी 100 से अधिक श्रमिकों को रोजगार देती है और 60 दिनों से अधिक समय तक वेतन देने में असफल रहता है या नहीं देता है तो उसे प्रत्येक कर्मी के वेतन पर 5,000 Dh का जुर्माना लगाया जाएगा अगर मामला बहुसंख्यक कर्मचारियों के वेतन विलंब का है तो जुर्माना Dh 50,000 तक लगाया जा-सकता है ।

100 से कम श्रमिकों को रोजगार देने वाली कंपनियों पर जुर्माना

यदि 100 से कम कर्मचारियों को रोज़गार देने वाली कंपनी नियत तारीख से 60 दिनों के भीतर वेतन का भुगतान करने में विफल रहती है तो उन कंपनियों को निम्नलिखित दंड का सामना करना पड़ेगा,

  • कंपनी के काम करने पर पाबंदी
  •  जुर्माना
  • न्यायालय का सामना करना होगा

जो कंपनियां 100 से अधिक श्रमिकों को रोजगार देते हैं और यदि कंपनी एक वर्ष में एक से अधिक बार इस तरह के उल्लंघन करती है तो मिनिस्ट्री ऑफ ह्यूमन रिसोर्स एंड अमीरात MOHRE उन कंपनियों को उच्चतम जुर्माने से दंडित करेगा।

स्रोत-मिनिस्ट्री ऑफ ह्यूमन रिसोर्स यूएई/ गल्फ न्यूज

अन्य पोस्ट

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments