सऊदी अरब मे स्पॉन्सरशिप ‘कफाला’ सिस्टम को खत्म करने की तैयारी

सऊदी अरब की योजना विदेशी कामगारों के प्रायोजन सिस्टम (sponsorship) को रद्द करने की है, जिसे कफाला भी कहा जाता है, और इसे नियोक्ताओं और कर्मचारियों के बीच एक अनुबंध के साथ प्रति-स्थापित किया जाता है। फाइनैन्शल न्यूज़ एजेंसी Maaal ने मंगलवार को अपने विशेष स्रोतों का हवाला देते हुए इस रिपोर्ट को प्रकाशित किया था। पढ़े-सऊदी अरब ग्रीन कार्ड निवास परमिट आवेदन प्रक्रिया

सऊदी अरब, इस वर्ष (जी 20) देशों के समूह की अध्यक्षता कर रहा है, अपने निजी क्षेत्र को बढ़ावा देने और अपनी तेल आधारित अर्थव्यवस्था में विविधता लाने की महत्वाकांक्षी योजना के तहत विदेशी प्रतिभाओं के लिए इसे और अधिक आकर्षक बनाना चाहता है। पढ़े-खाड़ी सहयोग परिषद GCC का गठन व उद्देश्य

काफला सिस्टम, सऊदी अरब में तकरीबन सात दशकों से है, यह प्रणाली प्रवासी श्रमिक को एक नियोक्ता (Employer)के लिए बाध्य करता है। दुनिया भर के अधिकतर ह्यूमन राइट्स ग्रुप इस प्रणाली की आलोचना करते हैं और कहते हैं कि यह श्रमिकों को शोषण व कमजोर करता है। पढ़े-सऊदी अरब 1932 से अब तक के राजाओं व ताज-राजकुमारों की सूची व इतिहास

Maaal फाइनैन्शल न्यूज़ एजेंसी के रिपोर्ट में कहा गया है “मानव संसाधन और सामाजिक विकास मंत्रालय एक नई पहल की घोषणा, नियोक्ताओं और प्रवासी श्रमिकों के बीच संविदात्मक संबंधों को बेहतर बनाएगा”। 

इस सिस्टम को 2021 की पहली छमाही से लागू की जाएगी, इस विषय मे अभी तक विस्तृत जानकारी नहीं दी गयी है।

वर्तमान में 10 मिलियन से अधिक विदेशी कामगार कफला सिस्टम के तहत सऊदी अरब में रहते और काम करते हैं, जिसके लिए उन्हें सऊदी नियोक्ता द्वारा प्रायोजित करने की आवश्यकता होती है और जब भी वे देश छोड़ना चाहते हैं, तो उनके लिये एक एक्ज़िट/एक्ज़िट री एंट्री वीज़ा जारी किया जाता है। पढ़े-सऊदी अरब, निताकात कानून, रंग, श्रेणियाँ और लाभ

किंगडम ऑफ सऊदी अरबिया 2020 की पहली तिमाही के दौरान प्रायोजन सिस्टम (Sponsorship system) को समाप्त करने के लिए निर्धारित किया गया था, लेकिन कोरोनोवायरस महामारी के कारण इसमें देरी हुई है।

 Saudi Gazette अनुसार, इस कदम का उद्देश्य प्रवासी श्रमिकों और उनके नियोक्ताओं के बीच संविदात्मक संबंध को बेहतर बनाना है और यह क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के विजन 2030 के अनुरूप आर्थिक सुधारों का हिस्सा है।

सऊदी गजट ने अपने लेख मे लिखा है, “स्पॉन्सरशिप सिस्टम को समाप्त करने से प्रवासी श्रमिकों को सुरक्षित बाहर निकलने और पुनः प्रवेश करने की स्वतंत्रता मिल जाएगी, प्रायोजक के बिना पासपोर्ट पर एक्ज़िट री एंट्री वीज़ा स्टैम्प प्राप्त होगा, और प्रायोजक से अनुमोदन के बिना ही रोज़गार प्राप्त होगा”। पढ़े-सऊदी अरब वीज़ा के प्रकार व आवेदन प्रक्रिया

नए कानून का उद्देश्य नकारात्मक गतिविधियों जैसे भगोड़े श्रमिकों और इकामा उल्लंघनकर्ताओं के काला बाजार को हतोत्साहित करना है। पढ़े-सऊदी अरब, इकामा पर दर्ज Huroob Status की जाँच करें-2020

इसके बाद अगले कदम के रूप में विशेषाधिकार रेजीडेंसी परमिट (प्रीमियम इकामा) Special Privilege Residency Permit (Premium Iqama) की शुरुआत को देखा जा-सकता है। यह सिस्टम कई विशेषाधिकार प्रदान करेगा और साथ ही अपने और परिवार के लिए कई सेवाओं का लाभ उठाने का मौका भी देगा। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here