सऊदी अरब में प्रवासियों के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य योजना

सऊदी संविधान के अनुसार, सरकारी अस्पताल सऊदी नागरिकों और सार्वजनिक क्षेत्र में काम करने वाले प्रवासियों को मुफ्त सेवाएं प्रदान करता हैं। विदेशी नागरिक कभी भी सरकारी अस्पतालों में जा सकते हैं, लेकिन उन्हें बिना सरकारी मदद के बिल का भुगतान करने की आवश्यकता होगी।

सऊदी अरब के इमिग्रेशन नियमों के अनुसार विदेशियों को वीज़ा जारी करने से पहले निजी स्वास्थ्य बीमा की आवश्यकता होती है। पढ़े-इक़ामा उल्लंघन पर जवाज़ात द्वारा घोषित जुर्माना-2020

सऊदी अरब की अधिकांश स्वास्थ्य नीतियों का प्रबंधन स्वास्थ्य मंत्रालय Ministry of Health (MoH) द्वारा किया जाता है।

तीर्थयात्रियों (Pilgrims)

(हज) के दौरान, तीर्थयात्रियों को सऊदी नागरिकों की तरह मुफ्त स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जाती हैं। तीर्थयात्री के दौरान सरकारी अस्पतालों में काफी भीड़ भाड़ रहता है, विशेष रूप से मक्का शहर में। पढ़े-नक़ल कफ़ाला, इक़ामा ट्रांसफर के स्थिति को जाँचने का ऑनलाइन प्रक्रिया

फंडिंग का दबाव (Funding pressures)

कई कारणों से स्वास्थ्य देखभाल पर सरकारी ख़र्चों में वृद्धि के लिए अग्रणी हैं। इसमें शामिल है,

  • प्रति व्यक्ति जीडीपी में वृद्धि – प्रत्येक व्यक्ति की स्वास्थ्य सेवाओं के लिए अधिक मांग है
  • बढ़ते उम्र 
  • सड़क दुर्घटनाओं की उच्च दर
  • जनसंख्या वृद्धि। सऊदी अरब की प्रजनन दर अभी भी उच्च है ( 2.7 – विश्व बैंक डेटा के अनुसार)
  • हज यात्रा के दौरान हज तीर्थयात्रीयो पर किया जाने वाला स्वास्थ्य खर्च। पढ़े-सऊदी अरब, इकामा पर दर्ज Huroob Status की जाँच करें-2020

सार्वजनिक क्षेत्र के अस्पतालों को फाइनेंसईल परेशानी से दूर करने के लिए, निजी स्वास्थ्य बीमा को पहले ही प्रवासीयो के लिए चरणबद्ध किया जा चुका है। हालांकि, किंगडम मे सार्वजनिक अस्पतालों को तेजी से अधिक स्वायत्तता और अधिक प्रोत्साहन दिया जा रहा है जिसे कुशलता से चलाया जा सके। तदनुसार, निजीकरण एक नीतिगत विकल्प है जिस पर सऊदी नीति निर्माताओं द्वारा गंभीरता से विचार किया जा रहा है। पढ़े-इकामा समाप्ति के बाद फाइनल एग्जिट वीज़ा जारी की प्रक्रिया-2020

फंडिंग (अवलोकन)

आज की तारीख में सऊदी अरब में कुल स्वास्थ्य देखभाल व्यय का लगभग दो तिहाई धन सार्वजनिक  क्षेत्र से आता है ।

सऊदी अरब धीरे से कर वित्त पोषित प्रणाली (Tax-financed system) से बीमा आधारित प्रणाली में स्थानांतरित हो रहा है।अधिकांश विदेशी नागरिकों को पहले से ही निजी स्वास्थ्य बीमा करना अनिवार्य कर दिया गया है।पढ़े-सउदी अरब में भारतीय पासपोर्ट ऑनलाइन अपॉइंटमेंट प्रक्रिया

सहकारी स्वास्थ्य बीमा (Cooperative health insurance)

सऊदी अरब नेशनल हेल्थ-केयर के ख़र्चों को फाइनेंस करने के लिए ‘स्वास्थ्य’ बीमा प्रीमियम पर तेजी से गिनती कर रहा है। पढ़े-सऊदी अरब वीज़ा के प्रकार व आवेदन प्रक्रिया

निम्नलिखित व्यक्तियों के पास सहकारी स्वास्थ्य बीमा होना चाहिए,

  • निजी क्षेत्र (प्राइवेट) में काम कर रहे सऊदी नागरिक + व उनके आश्रित
  • वो प्रवासीयो जो निजी क्षेत्र (प्राइवेट) में काम कर रहे है + व उनके आश्रित
  • सऊदी अरब में रहने वाले बेरोज़गार।

सबसे महत्वपूर्ण बात, आपको सऊदी अरब आने से पहले कुछ टीका-करण करने की आवश्यकता है। जांच कराने के लिए मुख्य टीके हैं,

  • क्षय (Tuberculosis)
  • हेपेटाइटिस (ए और बी)
  • पोलियो
  • टाइफाइड
  • पीला बुख़ार (यदि आप एक उच्च जोखिम वाले देश से आते हैं)
  • टेटनस
  • रेबीज 
  • मेनिंगोकोकल मेनिनजाइटिस

नोट-सऊदी अरब में डेंगू बुख़ार, शिस्टोसोमियासिस और मलेरिया (जैसे बीमारी के लिए कोई टीका नहीं है) 

  • आम तौर पर मच्छरों के काटने से बचने के लिए आवश्यक कदम उठाए

पुराने रोग (Chronic diseases)

सामान्य-तह, सऊदी स्वास्थ्य मंत्रालय स्वास्थ्य रोकथाम को बहुत गंभीरता से लेता है। लेकिन आर्थिक विकास के साथ दुनिया के अन्य विकासशील देशों की तरह सऊदी अरब मे कुछ आम बीमारियाँ भी है। पढ़े-सऊदी अरब, सेवा समाप्ति लाभ (End of service benefits) गणना-2020

उदाहरण,

  • डायबिटीज़
  • उच्च रक्तचाप
  • दिल की बीमारियाँ
  •  कैंसर
  • आनुवांशिक रक्त विकार
  •  मोटापा

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here