क्या आप सऊदी अरब में शादी करना चाहते है?

आप सऊदी अरब में शादी करना चाहते है ?

क्या आप किसी के साथ घर बसाने के लिए तैयार हैं, सऊदी अरब में रहते हुए शादी का अगला कदम उठाना चाहते हैं? यदि आप शादी करने के योग्य हैं, तो आवश्यक कदम और शर्तों के बारे में आप को पता होना चाहिए।

सऊदी अरब एक ऐसा देश है जो शादी को विश्वसनीय रूप से मूल्यवान मानता है. किंगडम में शादी करना और परिवार बसाना बहुत बड़ी उपलब्धि है. सऊदी अरब में शादी करना प्रवासियों के लिए आसान प्रक्रिया नहीं है।

सऊदी अरब में शादी करने की शर्तें 

शुरुआत के लिए, धार्मिक मान्यताओं की परवाह किए बिना,सऊदी के कानून के अनुसार केवल मुस्लिम व्यक्ति ही सऊदी मे विवाह कर सकता हैं. सऊदी अरब की अदालत किसी अन्य धर्मों के बीच विवाह को मान्यता नहीं देती है. यहा का कानून मुख्य रूप से शरिया (इस्लामिक) कानून द्वारा पालन की जाने वाली अदालतों पर आधारित है।

कहा जा रहा है, यदि आप एक अलग धर्म या राष्ट्रीयता के हैं, तो सऊदी अरब में अपनी शादी को मान्यता देने का एकमात्र तरीका देश के बाहर शादी करना है और लौटने पर, कानूनी विवाह प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना, या फिर आपका दूतावास या आपके साथी देश के प्रतिनिधित्व दूतावास जा कर (शादी कर सकते है) दूतावास द्वारा कानूनी स्वीकृति की आवश्यकता होती है, जिस देश से यह प्रतिनिधित्व करता है, जिस देश से, आपका साथी किंगडम में आता है. उदाहरण के लिए, वर्तमान में, फ़िलीपीन्स दूतावास में विवाह करने के लिए प्राधिकरण है, लेकिन अधिकांश यूरोपीय दूतावास ऐसी सेवा प्रदान नहीं कर रहे हैं।

यदि आप मुस्लिम हैं, तो आपको यह सुनिश्चित करने के लिए जांच करनी चाहिए कि आप सऊदी अरब में शादी के योग्य (qualify) हैं या नहीं।

नीचे दिए गए विकल्प देखें। 

> दोनों ही इक़मा IQAMA (निवास परमिट) धारक होने चाहिए।

> महिला को अपने वर्तमान प्रायोजक (current sponsor) से लिखित अनुमति लेनी होगी 

> दोनों को शादी की शर्तों से सहमत होना चाहिए 

>धार्मिक प्रथाओं को पूरा किया जाना चाहिए 

>विवाह समारोह और प्रमाण पत्र (License) सऊदी परिवार न्यायालयों द्वारा जारी किए जाएंगे 

>दो गवाहों के साथ सक्षम अधिकारी द्वारा अनुमोदन का एक पत्र प्रस्तुत करना होगा

(सउदी के लिए मेडिकल रिपोर्ट (मूल और प्रतिलिपि)

>जीवन-साथी या उनके प्रतिनिधियों की उपस्थिति

>अभिभावक की उपस्थिति या महिला का एजेंट

सऊदी अरब में संरक्षकता 

विवादास्पद क़ानूनों में पिछले वर्षों में सुधार किया गया है. हालाँकि, फिर भी जब परिवार के मामले, जैसे शादी व तलाक जैसे दावे होते हैं, तो महिलाओं पर अभिभावकों की बहुत अधिक शक्ति होती है। 

एक महिला का अभिभावक आमतौर पर पति होता है, लेकिन इस बीच यदि वह मर (dies) जाता है, तो मरहरम क़रीबी रिश्तेदार हो सकता है जैसे पिता, भाई, चाचा, या यहां तक ​​कि बेटा भी. महिला के नियति पर अभिभावक का निर्णायक शब्द होता है. 2019 के बाद से,सउदी मे विवाहित महिलाएं अपने अभिभावक की स्वीकृति प्राप्त किए बिना, जन्म, विवाह या तलाक को पंजीकृत कर सकती हैं. पहले, अभिभावक ही इन दस्तावेज़ों को प्रस्तुत था। 

ध्यान दें कि गैर-सऊदी महिलाओं द्वारा सऊदी नागरिकों से शादी करने के लिए विशेष कानून लागू होते हैं। इसलिए, तलाक के बाद, सऊदी पूर्व पति (ex Saudi husband) अपने पूर्व पत्नी (Ex wife) पर जब तक वह पुनर्विवाह नहीं करती है, तब तक संरक्षकता (guardianship) का अधिकार रखता हैं।

सऊदी अरब में ई-प्रमाण पत्र 

2018 के बाद से, न्याय मंत्रालय ने विवाह अधिकारियों को सऊदी नागरिकों साथ (expats) एक्सपैट्स के लिए भी घर-आधारित विवाह आयोजित करने का अधिकार दिया है. साथ ही  ई-विवाह प्रमाण पत्र देने का फैसला किया गया था. हालाँकि, ये प्रक्रिया अभी भी केवल अरबी बोलने वाले जोड़ों के लिए उपलब्ध है।

सऊदी अरब में शादी करने की प्रक्रिया 

अगर पुरुष सऊदी नागरिक है और महिला विदेशी है 

किसी दूसरे राष्ट्रीयता के महिला से शादी करने के लिए सउदी पुरूष को अदालत में आवेदन करना होता हैं. एक बार मंजूरी मिल गई, तो वे बाकी औपचारिकताओं के साथ आगे बढ़ सकते हैं।

1-महिला को अपने वर्तमान प्रायोजक (current sponsor) से लिखित अनुमति लेनी होगी.

2-दोनों को शादी की शर्तों से सहमत होना चाहिए.

3-धार्मिक प्रथाओं को पूरा किया जाना चाहिए.

3-विवाह समारोह और प्रमाण पत्र (लाइसेंस) सऊदी परिवार न्यायालय द्वारा जारी किए जाएंगे .

राष्ट्रीयता (Nationality)

ध्यान रहे कि सऊदी में विदेशी महिला कुछ विशिष्ट मामलों को छोड़कर, सऊदी राष्ट्रीयता के पुरुष के लिए योग्य नहीं है।

महिला को सऊदी नागरिक के समान लाभ प्राप्त होंगे लेकिन उसे नागरिकता नहीं दी जाएगी. हालांकि, शादी के पैदा हुए बच्चों को जन्म के समय सऊदी नागरिकता मिल जायेंगी।

अगर महिला सऊदी है और पुरुष विदेशी है 

यह मामला बहुत विशेष है.

यह सऊदी अरब के भीतर प्रचलित है, लेकिन अदालतों को केस-टू-केस के आधार पर फैसला करना चाहिए।

 विशेष  (Good to know)

एक विदेशी पुरुस से शादी करने वाली सऊदी महिला अपने पति की स्थायी प्रायोजक (Permanent sponsor) बन जाएगी। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here