Monday, July 15, 2024
Homeलेबर लॉसऊदी अरब, सेवा अनुभव प्रमाण पत्र

सऊदी अरब, सेवा अनुभव प्रमाण पत्र

वर्क एक्सपीरियंस सर्टिफिकेट वास्तव में किसी भी व्यक्त के जीवन मे मायने रखता है। वर्किंग लाइफ में जिन कर्मचारियों के पास मल्टीपल कौशल होते है। वे अपने कैरियर मे अनेकों कंपनियों के लिए काम करते हैं और अपनी प्रतिभा के अनुसार उच्चतम पदों पर पदोन्नति होते चले जाते हैं। पढ़े-सऊदी अरब, सेवा समाप्ति लाभ (End of service benefits) गणना

दुनिया भर के देशों से प्रवासी कामगार नौकरी के लिए सऊदी अरब आते है जिनमें ज्यादातर मजदूर, तकनीसीयन, कुक, वेटर,सेल्समैन, इंजीनियर आदि होते है जिनके पास विशेष डिग्री के साथ व्यावसायिक डिग्री भी होती है। उनमें से हर एक अपने काम का रिकॉर्ड रखना चाहता है। 

इसके लिए उन्हें सर्विस सर्टिफ़िकेट या एक्सपीरियंस सर्टिफ़िकेट की आवश्यकता होती है। यह सर्टिफ़िकेट आपके द्वारा किए गए कार्य या कौशल को इंगित करता है। किसी दूसरी कंपनी मे जॉब के लिये अप्लाइ करने पर एक्सपीरियंस सर्टिफ़िकेट बहुत ही सहायक होता है। पढ़े-सऊदीजेशन और निताकात प्रोग्राम से प्रवासी श्रमिकों पर प्रभाव

यह प्रमाण पत्र कर्मचारी के अनुबंध समाप्त होने या नौकरी छोड़ने के उपरांत कंपनी/कफ़िल द्वारा दिया जाता है।

सऊदी श्रम कानून इस संबंध में क्या कहता है? 

सेवा अनुभव प्रमाण पत्र 

सऊदी श्रम कानून 05/05/1436 H के रॉयल डिक्री नंबर M/46  के अनुसार कोई भी कर्मचारी कंपनी/कफ़िल से अपने सर्विस सर्टिफ़िकेट का अनुरोध कर सकता है अतः कफ़िल या कंपनी को अपने कर्मचारी द्वारा किए गए अनुरोध पर वर्क प्रमाण पत्र प्रदान करना होगा जिस पर उसके सभी सकारात्मक बिंदु लिखे जाने चाहिए। पढ़े-सऊदी अरब, मकतब अमल (Maktab Amal) लोकेशन, समय और हेल्पलाइन नंबर

इनमें से कुछ चीजें अनिवार्य रूप से शामिल होने चाहिए जैसे काम शुरू करने की तारीख और काम छोड़ने की तारीख, सैलरी डिटेल्स और प्रोफेशन आदि लिखी जानी होना चाहिए। इसके अलावा प्रमाण पत्र जारी करने का कोई शुल्क कर्मचारी के वेतन से नहीं लिया जाना चाहिए। 

सऊदी श्रम कानून कंपनी/कफ़िल कों प्रमाण पत्र मे ऐसी किसी भी तथ्य को शामिल करने से प्रतिबंधित करता है जिससे कर्मचारी के प्रतिष्ठा को नुकसान पहुँचाता हो या नया रोज़गार प्राप्त करने के अवसर मे बाधक हो। पढ़े-सऊदी अरब, निताकात, रंग, श्रेणियाँ और लाभ

सऊदी अरब का नया श्रम कानून 18 अक्टूबर 2015 को लागू किया गया था। पिछले कानून के अनुसार कंपनी/कफ़िल एक्सपीरियंस सर्टिफिकेट मे कारण के साथ कुछ अन्य तथ्य शामिल सकते थे। 

RELATED ARTICLES

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments